Trending

29 जनवरी 2019

श्री कृष्ण की कुलदेवी श्री हरसिद्धि भवानी का इतिहास

गुजरात में स्थित पोरबंदर के पास गांधवी गाँव में माँ हरसिद्धि का मंदिर स्थित है। इसका महत्व बहुत अलग है। ऐसा कहा जाता है कि माता हरसिद्धि माता को भगवान कृष्ण की कुलदेवी के रूप में पूजा जाता है। और माता हरसिद्धि, जो कोयला की पहाड़ी पर बैठी हैं, आज भी अपने चमत्कारों के कारण पूजनीय हैं। माँ हरसिद्धि को हर्षद माँ, सिकोतर और वहाणवटी माँ के नामसे पुजा जाता है|

Third party reference

पढ़िए कोयला पहाड पर बिराजमान माँ हरिसिद्धी की कहानी

कोएला पहाड़ पर बिराजमान हर्षद माँ भगवान श्री कृष्ण की कुलदेवी हैं। और उनका इतिहास कुछ ऐसा है। यह लोकवायका है कि बेट द्वारिका में शंखासुर नाम का एक राक्षस था। प्रतिदिन राक्षस त्रास बढ़ता गया। इस वजह से, बेट द्वारिका के लोगों ने राक्षस के विनाश के लिए भगवान कृष्ण से प्रार्थना की। तब भगवान कृष्ण ने राक्षस शंखासुर से युद्ध करने की सोची। लेकिन युद्ध के लिए, उनकी कुंलदेवी मां का आशीर्वाद लेने का फैसला किया, और भगवान कृष्ण ने कोयला डूंगर में आकर मां हर्षद की तपस्या की।

माता हर्षद भगवान कृष्ण की तपस्या से प्रसन्न हुईं।उन्होंने कहा, "आप सर्वशक्तिमान हैं, आप इस दुनिया के उद्धारकर्ता हैं, आप इस दुनिया के शरीर हैं। मेरी तपस्या का कारण क्या है? तब भगवान कृष्ण ने कहा कि मैं राक्षस शंखासूर से लड़ना चाहता हूं और आपका इसमें मुजे आशीर्वाद चाहिए। तब मां हर्षदे ने कहा, जब भी आप युद्ध पर जाएं, मुझे कोयला पहाड़ी पर ध्यान केंद्रित करके याद करना। मैं आपको युद्व में सहायता करूगी।

तब माताजी की कृपा से यादव परिवार के वंशज भगवान श्री कृष्ण ने शंखासुर का विनाश किया और शंखासुर के अत्याचार से बेट द्वारका के लोगों को मुक्त कराया। यादवों की कुलदेवी हरसिद्धी माँ का भगवान कृष्ण ने मंदिर का निर्माण किया। जो आज भी कोयला पहाड़ पर स्थापित है। कोयला पहाड़ में समुद्र के बीच में 400 सीढ़ियाँ हैं, जहाँ यह शक्ति विराजमान है। आज भी उनके चरणों में कदम रखते ही हजारों भक्त सुख महसूस करते हैं। उसी समय, जब आप सीढ़ियों पर चढ़ते हैं, तो आप प्रकृति की सुंदरता देखेंगे, समुद्र की लहरों की आवाज़ महसूस की जाएगी, और आप हवा के संबंध में प्रकृति का आनंद ले पाएंगे।

Third party reference

कोयला पहाड़ियों के किनारे पर बैठी माँ हरसिद्धी का इतिहास


पहले के दिनों में, व्यापार केवल समुद्र के माध्यम से किया जाता था, और जब भी व्यापारि अपने जहाज कोइला पहाड़ से गुजरते थे, तब सब व्यापारी माता हरसिद्धी को ध्यान करते और एक श्रीफल और ओढनी समुद्र भगवान को अर्पित करते थे।

एक बार जगदुषा नाम का एक व्यापारी अपने सात जहाजों को लेकर इस समुद्र से गुजरता है, जगदुषा के सात जहाज हीरे के आभूषणों से भरे हुए थे। जगदुसा स्वयं एक बनिया है इसलिए उसे माताजी में आस्था नही रखता है। इसलिए उन्होंने हँसते हुए माताजी को ओढनी और  श्रीफल नहीं चढ़ाया और तुरंत ही जगदुषा के सात जहाज डूबने लगे; जगदुष ने देवी के क्रोध को समझा और कहा, 'हे देवी! मेरे सात जहाजों को डूबने से बचालो, उसे बचा लो। मैं तुरंत आपके दर्शन के लिए कोयला पहाड पर आऊगा और ओढनी और श्रीफल चढ़ाऊगा। "

Third party reference

जगदुसा इतना बोलते है की तुरन्त ही एक चमत्कार होता है जहाँ सात जहाज समुद्र में अपने आप समुद्र में तैरते हैं, और फिर जगदुषा कोयला डूंगर के पास आता है और माँ हरीसिद्धी पर विश्वास करता है और अपनी कुलदेवी बनाता है। फिर उसने माताजी को बिनती करकेकहा माँ आपपहाड से नीचे मंदिरमें आजाए जिससे आपके भक्तो को पहाड चढने में परेशानी  न हों। कोयला पहाड़ी की चोटी के तल में मैं तुम्हें एक मंदिर बनवाऊंगा। जगदुषा ने तलहटी में एक मंदिर बनाया। लेकिन माताजी नीचे नहीं आईं। हर्षद माँ  जगदुषा भक्ति सेप्रसनहोकर जगदुसा की परीक्षा करने की सोची और कहा, मुझे हर एक कदम पर जानवर की बलि दो तो में पहाड़ से नीचे आकर तल मंदिर में वास करूगी।

जगदुषा ने पहाड़ की सीडीयों हर कदम पर बकरी, बकरा, अन्य जानवरों की बली चढाते गए। अब सभी जानवरोकी कुर्बानियां पूरी हो गई थी और आखिरी बचा सिर्फ चार कदम थे। लेकिन बहोत ढुढने पश्चात भी कोई जानवर नही मिला, तो माँ कहेती हैं, 'जगदुसा, मेरी बली अधूरी रही है।इसलिए में वापस पहाड पर चली जाती हूँ । जागदुसा माता जी को रोकते हुए कहा  मैं आपको अपना बलिदान दे दूंगा। ”उनके पुत्र और पत्नी सुना कि उनके पुत्र और उनकी  पत्नि बली देते है। चार कदमों में जगदुषा ओर परिवार का बलिदान माताजी  देते है। कोयला पहाड़ी की तलहटी में नीचे उतरती हैं और पहाड के नीचले मंदिर में बिराजमान होते है।

जगदुषा की पूजा से माताजी प्रसन हुए। और सभी कुर्बानियां फिरसे जीवित कर दिया। और वे जगदुषा के परिवार की कुलदेवी के रूप पूजते हैं और जगदुषा के कुल की रक्षा के लिए जगदुषा से वादा करते हैं। आज भी माता हर्षद कोयला पहाड़ी के किनारे पर मंदिर में बिराजमान हैं।

आज भी, हरसिद्धि को दल्लभ गोत्र के त्रिवेदी  के कुल की कुलदेवी के रूप में पूजा जाता है, और यह मंदिर वह है जहाँ सुबह आरती की जाती है और शाम की आरती उज्जैन में की जाती है।

दोस्तों अगर जो आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया हो तो हमारी वेब साइट को फॉलो करें और लाइक करें